हरिद्वार

लोगों से करोड़ों की ठगी करने वाला ईनामी चल रहा था लम्बे समय से फरार, किया गिरफ्तार

पौड़ी पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, हजारों कि०मी दूर तमिलनाडु में पौड़ी पुलिस की धमक

हरिद्वार की गूंज (24*7)
(रजत चौहान) हरिद्वार/पौड़ी। 10 नवंबर 2022 को वादी शूरवीर सिंह भण्डारी पुत्र स्व० केन्द्र सिंह भण्डारी, निवासी भण्डारी भवन काला रोड़ श्रीनगर जनपद पौड़ी गढ़वाल ने कोतवाली श्रीनगर पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करायी कि अरूण राज चलैल्या ने वादी एवं श्रीनगर के स्थानीय व्यक्तियों एवं व्यापारियों से फर्नीचर एवं अन्य घरेलू समान खरीदने के नाम पर करोडों की धोखाधड़ी की है। प्रथम सूचना रिपोर्ट के आधार पर जनपद की कोतवाली श्रीनगर पर मु०अ०सं-94/2021, धारा-406/420 भा०द०वि बनाम अरूण राज चलैल्या पंजीकृत कर विवेचना उपनिरीक्षक रणवीर चन्द्र रमोला के सुपुर्द की गयी। वहीं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद पौड़ी गढ़वाल श्रीमती श्वेता चौबे द्वारा आमजनमानस के साथ हो रही धोखाधड़ी की घटनाओं को गम्भीरता से लेते हुये अभियोग का सफल निस्तारण कर प्रभारी निरीक्षक श्रीनगर के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित कर अभियुक्त की शीघ्र गिरफ्तारी करने के लिए आदेशित किया गया। जिसके क्रम में शेखर चन्द्र सुयाल अपर पुलिस अधीक्षक कोटद्वार के निर्देशन श्याम दत्त नौटियाल क्षेत्राधिकारी श्रीनगर के पर्यवेक्षण एवं प्रभारी निरीक्षक हरिओम राज चौहान के नेतृत्व में पुलिस टीम का गठन किया गया। चूँकि प्रकरण आमजनमानस से करोड़ों रूपये की आर्थिक धोखाधड़ी से सम्बन्धित था। इस हेतु गठित पुलिस टीम द्वारा तत्काल अभियुक्त की गिरफ्तारी एवं घटना के सफल अनावरण के लिए त्वरित कार्यवाही करते हुये ठोस सुरागरसी-पतारसी एवं सर्विलान्स की मदद से अभियुक्त के बारे में विभिन्न माध्यमों से जानकारी की गयी। काफी प्रयासों के बाद अभियुक्त उक्त का तमिलनाडु में होने की जानकारी प्राप्त हुयी। अभियुक्त काफी शातिर किस्म का ठग है, जो अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिये लगातार अपने ठिकाने तथा मोबाइल व आईएमईआई नम्बर बदल रहा था। जिसकी गिरफ्तारी के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु ₹ 5,000/- का ईनाम घोषित किया गया। अभियुक्त के बारे में जानकारी प्राप्त होते ही पुलिस टीम बिना समय गंवाये तमिलनाडु के लिये रवाना हुयी। जनपद पौड़ी से सैकडों कि०मी दूर वहां के वातावरण एवं भाषा सम्बन्धी कठिनाइयां पुलिस टीम के सामने आना स्वाभाविक था। भिन्न वातावरण एवं भाषा सम्बन्धी समस्याओं के बीच फरार अभियुक्त का पता लगाना पुलिस के लिये चुनौतिपूर्ण कार्य था। गठित टीम द्वारा काफी जद्दोजहत करते हुये तमाम कठिनाइयों एवं चुनौतियों को दरकिनार कर तमिलनाडु पहुँकर अथक प्रयासों के फलस्वरूप गठित टीम को सफलता मिली। परिणाम स्वरूप पौड़ी पुलिस ने अभियुक्त अरूण राज चलैल्या को 20 जनवरी की देर रात्रि 2.30 बजे तमिलनाडु राज्य से गिरफ्तार कर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जा रही है। वहीं पूछताछ में अभियुक्त ने बताया कि वह वर्ष-2021 में धनतेरस से पूर्व श्रीनगर में अपने किसी परिचित के माध्यम से व्यवसाय करने के उद्देश्य से आया था। उसके द्वारा श्रीनगर बाजार में दीपावली पर्व के धनतेरस पर स्थानीय व्यक्तियों को सस्ते सामानों का प्रलोभन देकर एडवान्स बुकिंग लेकर धनतेरस के दिन स्थानीय एवं आसपास के अन्य क्षेत्र के व्यक्तियों से करोडों रूपये हड़प कर फरार हो गया। अभियुक्त ने पूछताछ में यह भी बताया कि उसके द्वारा इससे पूर्व इसी प्रकार की धोखाधड़ी रूद्रप्रयाग, ऋषिकेश एवं उत्तराखण्ड के अन्य भिन्न-भिन्न स्थानों पर भी की जा चुकी थी। वह लोगों से करोडों रूपये हड़प कर तमिलनाडु फरार हो गया एवं पुलिस उसके ठिकाने का पता न लगा पाये इसलिये वह लगातार अपने ठिकाने व मोबाईल नम्बर बदल रहा था। अभियुक्त को पौड़ी पुलिस का तमिलनाडु में आने व गिरफ्तार होने का अंदेशा नहीं था। वहीं पुलिस टीम में वरिष्ठ उपनिरीक्षक संतोष पैथवाल, उपनिरीक्षक रणवीर चन्द्र रमोला, मुख्य आरक्षी माजिद खान व आरक्षी हरीश सीआईयू शामिल रहें।

Related Articles

error: Content is protected !!